Tag: Hindi poetry

मंजिल की चाह

Hindi poems

गिद्ध और लोमड़ी

गिद्ध, भेड़िए और लोमड़ीसब बैठें हैं, ताक में कौन पहले हाथ मरेगा लाशों के अंबार में। कौन बचाए मुर्दों कोभूखों का खाना बनने से,लोमड़ी जैसी आखों से,जंगली चोचों और पंजो से। थोड़े बचे हुए,झांक रहे दरारों सेलूटी उम्मीद, बुझे चेहरेचीख रहे अंधियारों से। गिद्ध,…

Life

How can one make statue of sand with the help of hammer and chisel. Life is like that only.

Shehar

People

When you blame your friends and family; you probably don’t think about how you would have behaved if you were there. If you think about this simple social behaviorism , you may not blame anyone for anything. Because deep down we all are same.

LoveRain

love

Stars

love of life

नामालूम सी बात

बात थी नामालूम सी, कहीं दिल में दबी थी,मेरे बचपन से जवानी तक, गली के नुक्कड़ खड़ी थी, बात थी नामालूम सी, कहीं दिल में दबी थी,अलविदा ओ शहर, चले दूर अपने और परायों से, बस वही , हर मोड़ पर मिली थी, बात…

Jindgi ki tapish

hard and tough Life

नारी

नारी होती महतारी हम सब उसके आभारी महिमा नारी की निराली, अतुलनीय है नारी, सम्मान नारी है, उपमान नारी है, नारी जीवन की संभारी, यह है नारी की वाणी नारी,जिस पर घर समाज सबके सम्मान की जिम्मेदारी, घर काज, बच्चे और अतिथि, सब पर…

%d bloggers like this:
%d bloggers like this:
%d bloggers like this:
%d bloggers like this:
%d bloggers like this:
%d bloggers like this:
%d bloggers like this:
%d bloggers like this:
%d bloggers like this:
%d bloggers like this: